रक्षाबंधन- भाई चारे का पर्व

आप सभी को भाईचारे और सौहार्द का पर्व रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं…..राखी का पर्व हमें एक दूसरे की सुरक्षा और सामाजिक समरसता का संदेश देता है…..मैं आप सभी से आशा करता हूं कि आप रक्षाबंधन के दिन जाति, धर्म, संप्रदाय से ऊपर उठकर समाज के हर वर्ग को रिश्ते की पवित्र डोर से बांधकर समाज में भाई चारे का निर्माण करेंगे..

रक्षाबंधन केवल भाई-बहन का पर्व नहीं है, जब हम गौर से सोचते हैं तो पाते है कि यह पर्व अपने आप में एक विचार है, यह सामाजिक और भावनात्मक सुरक्षा का पर्व है, पारिवारिक और मानवीय रिश्तों को मजबूत करने का पर्व है, यही कारण है कि रक्षाबंधन का पर्व, दुनिया में भारतीय संस्कृति को एक अलग पहचान देता है।

केडी सिंह फाउंडेशन, हरियाणा में दुष्कर्म पीड़ितों को लगातार सहायता पहुंचा रहा है, इस मुहिम के जरिए हमारा मकसद एक ऐसे समाज का निर्माण करना है जहां सभी सुरक्षित महसूस करें। इसके लिए जरूरी है कि हर इंसान एक दूसरे से आपसी विश्वास और भाई चारे की डोर से बंधा हो….जिससे जरूरत पड़ने पर एक दूसरे की सहायता करे सके। इससे सभी में सुरक्षा की भावना प्रबल होगी और महिलाएं, पुरूष, बुजुर्ग, बच्चे सुरक्षित महसूस करेंगे।

हम भारतीयों ने रिश्तों को हमेशा अधिक महत्ता दी है। लेकिन किसी कारण से आज सामाजिक समरसता और भाईचारे में दरार पड़ी है, जिसका असर भावनात्मक सुरक्षा और सामाजिक ढ़ांचे पर पड़ा है।

ऐसे में हमें सामाजिक तानाबाना को मजबूत और सुरक्षित करने के लिए रक्षाबंधन जैसे पर्व की आवश्यकता है। रक्षाबंधन के दिन भाई बहन ही नहीं, सभी वर्गों, जाति, धर्म, संप्रदाय के लोगों को एक दूसरे को राखी बांधना चाहिए, जिससे आपस के मतभेद खत्म हो सके। इसके लिए एक छोटी सी पहल करने की आवश्यकता है। हमें मानवीय कड़ी से एक ऐसी श्रृंखला का निर्माण करना होगा, जिसमें सभी एक डोर से बंधे हो….

एकबार फिर से आप सभी को केडी सिंह फाउंडेशन की ओर से रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं…

जय हिन्द…

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: