भारतीय उपमहाद्वीप पर भूकंप का कहर!!!

दोस्तों… पाकिस्तान में आए भूकंप में 200 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, बताया जा रहा है कि भूकंप के कारण पाकिस्तान में भारी जान माल की तबाही हुई है। कई गांव उजड़ गए हैं। भूकंपग्रस्त क्षेत्रों में लोग बेघर हो गए हैं। हजारों परिवार खुले आसमान के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं। खबरों से पता चला है कि 7.7 की तीव्रता वाले इस भूकंप का केंद्र पाकिस्तान के बलूचिस्तान इलाके में जमीन से 10 किलोमीटर अंदर था। यह इलाका भूकंप के लिहाज से बेहद संवेदनशील माना जाता है।

हम उत्तराखंड में आए प्राकृतिक आपदा से अभी भी उबर नहीं पाए हैं। हमारे लिए चिंता का विषय है कि देश का बड़ा हिस्सा भूकंप के लिहाज से संवेदनशील है। हमारी राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली का अधिकांश हिस्सा सिसमिक जोन 4 में आता है। राष्ट्रीय राजधानी के आसपास के इलाकों में बेतहाशा बहुमंजिली इमारतें बन रही हैं। इनमें से अधिकतर भूकंपरोधी नहीं हैं, ऐसे में यह सवाल उठना लाजमी है कि क्या हम भूकंप से निपटने के उपाय अपनाने को तैयार नहीं हैं? क्या हम सबकुछ जानते हुए भी बड़ी दुर्घटना को न्योता दे रहे हैं?

हमारे देश में लातूर (महाराष्ट्र), कच्छ (गुजरात) जम्मू-कश्मीर में बेहद भयानक भूकंप आ चुके है। इंडोनिशिया और फिलीपींस के समुद्र में आए भयानक भूकंप ने सुनामी का रौद्र रुप धारण कर लिया था। जिसने भारत, श्रीलंका और अफ्रीका में लाखों लोगों की जान ले ली।

वैज्ञानिकों ने भूकंप की तीव्रता को मापने में तो सफलता पा ली है, लेकिन अभी तक भूकंप की पूर्व सूचना या इसे रोकने का कोई वैज्ञानिक उपाए नहीं मिल पाया है। आपदा प्रबंधन और जागरूकता के जरिए प्राकृतिक आपदाओं से निपटा जा सकता है। न केवल सरकार बल्कि हमारी भी जिम्मेदारी बनती है कि हम प्राकृतिक आपदाओं के बारे में जागरूक रहे और संकट की घड़ी में एक दूसरे के मददगार बनें। इन उपायों से जानमाल के नुकसान को कम किया जा सकता है।

मैं और मेरी केडीसिंहफाउंडेशन की पूरी टीम पाकिस्तान में आये भूकंप में मारे गए लोगों के परिवारों और घायलों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं। इस संकट की घड़ी में पूरी दुनिया को पाकिस्तान की मदद करनी चाहिए, जिससे भूकंप में सबकुछ गंवा चुके लोगों को उम्मीद की किरण मिल सके…..वे अपना जीवन नए सिरे से शुरू कर सकें…..

जय हिन्द…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: